.wpmm-hide-mobile-menu{display:none}
ताजा समाचार बिहार

Bihar: पशुपति पारस ने किया कार्यकारिणी का विस्तार, 6 और सदस्य शामिल, देखें पूरे 15 नामों की लिस्ट

पशुपति पारस ने नई कार्यकारिणी में 6 और नामों को किया शामिल.  (फाइल फोटो)

पशुपति पारस ने नई कार्यकारिणी में 6 और नामों को किया शामिल. (फाइल फोटो)

LJP Dispute: एलजेपी के पारस (Pashupati Paras) खेमे के लीडर पशुपति पारस ने अपनी नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी में 6 और सदस्यों को शामिल कर दिया है. 

पटना. रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) की लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में चाचा और भतीजे के बीच खेमेबाजी जोरों पर है. एलजेपी के पारस खेमे के लीडर पशुपति पारस ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी का गठन पहले 9 चेहरों को शामिल किया. अब फिर से कमेटी में 6 सदस्यों की एंट्री हुई है. नए शामिल चेहरों में सूरज भान की पत्नी और पूर्व सांसद वीणा सिंह (राष्ट्रीय अध्यक्ष), पूर्व विधायक अनिल चौधरी (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष), वीरेश्वर सिंह (राष्ट्रीय महासचिव),  राकेश चौधरी (राष्ट्रीय महासचिव), डाॅ. उषा शर्मा (राष्ट्रीय महासचिव) और पूर्व विधायक रणवीर सिंह हुड्डा (राजस्थान-राष्ट्रीय महासचिव) का नाम शामिल है. पशुपति पारस ने अब तक राष्ट्रीय कार्यकारिणी के 15 सदस्यों के नामों की घोषणा की है.

इससे पहले चौधरी महबूब अली कैसर,  वीणा देवी, चंदन सिंह, प्रिंस राज, सुनीता शर्मा (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष), संजय सराफ (राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता), रामजी सिंह (राष्ट्रीय महासचिव) और विनोद नागर (राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता) को कार्यकारिणी में शामिल किया गया था.

पशुपति पारस का दावा

पशुपति पारस का कहना है कि जल्द ही राष्ट्रीय संसदीय बोर्ड, राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर की सभी कमेटियों का गठन किया जाएगा. पारस ने कहा कि आगे और लोग कार्यकारिणी में मनोनीत होंगे. उन्होंने कल होने वाले चिराग पासवान की बुलाई गई बैठक को असंवैधानिक करार दिया है. पशुपति पारस गुट ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी के फैसले की जानकारी चुनाव आयोग को भी दे दी है.

रविवार को बैठक

चिराग पासवान ने चुनाव आयोग से साफ कहा कि चाचा पशुपति पारस को पार्टी का अध्यक्ष बनाने के लिए पटना में बुलाई गई बैठक पूरी तरह से असंवैधानिक थी. इसमें राष्ट्रीय कार्यकारी के सदस्यों की उपस्थिति नहीं थी. सिर्फ नौ सदस्यों ने पारस को पार्टी का अध्यक्ष चुना लिया था. उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर पार्टी के चुनाव चिह्न और झंडे के इस्तेमाल पर रोक लगाने की मांग की भी है. अब चिराग ने रविवार को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है. माना यह भी जा रहा है कि इस बैठक में वो बड़ा बदलाव कर सकते हैं.





Follow Me:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: