.wpmm-hide-mobile-menu{display:none}
ताजा समाचार बिहार

जनसंख्या नियंत्रण कानून पर बात टालते दिखे CM नीतीश, कहा- लड़कियों को पढ़ाना है

नई दिल्ली. अपनी आखों के इलाज के लिए नई दिल्ली पहुंचे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सवालों के सीधे जवाब देने से बचते दिखे. दिल्ली में मंगलवार को जब नीतीश कुमार से जनसंख्या नियंत्रण कानून के बारे में पूछा गया तो उन्होंने मामले का खुलकर समर्थन नहीं किया. लेकिन राजनीतिक तौर पर कोई नुकसान न हो इसकी भरपाई भी वे करते दिखे. उन्होंने कहा कि बिहार में जनसंख्या पहले ज्यादा थी लेकिन अब नहीं.

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि एक सर्वे में ये बात सामने आई थी कि यदि लड़की मेट्रिक पास है तो जनसंख्या औसत में देश के बराबर बिहार है. यदि लड़की 12वीं पास है तो जनसंख्या औसत में देश से कम पर बिहार है. इसी के साथ उन्होंने अचानक बात को पलटा और कहा कि इसके बाद फैसला लिया गया कि हर पंचायत में उच्च माध्यमिक विद्यायल की स्‍थापना की जाएगी. उन्होंने कहा कि यदि लड़कियां पढ़ेंगी तो प्रजनन प्रतिशत कम होगा.

हम पहले से ही कर रहे थे काम

नीतीश कुमार ने इस दौरान बात को खत्म करने के लिहाज से कहा कि प्रजनन दर को कम करने के लिए बिहार में पहले से ही काफी काम हो रहा था. और इसके अब परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं. नीतीश ने कानून का सीधे सीधे समर्थन तो नहीं किया लेकिन उन्होंने कहा कि बिहार में धीर धीर जनसंख्या दर कम होगी.

इससे पहले असम के मुख्यमंत्री हेमंत विस्वसरमा ने जैसे ही घोषणा की थी कि उनके प्रदेश में कुछ चुनिंदा सरकारी योजनाओं का लाभ देने में दो बच्चों की नीति लागू की जाएगी तो देश में एक नई बहस छिड़ गई. लगे हाथों उतर प्रदेश से भी खबर आ रही है कि योगी सरकार भी तैयारी कर रही है कि प्रदेश में सरकारी योजनाओं का लाभ उन्ही को मिलेगा जिनके दो बच्चे हैं. उतर प्रदेश सरकार के विधि आयोग ने जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून का मसौदा बनाना शुरू कर दिया है.

Published by:Saurabh Sharma

First published:

Follow Me:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: