.wpmm-hide-mobile-menu{display:none}
ताजा समाचार बिहार

दरभंगा पार्सल ब्लास्ट केस में Exclusive अपडेट, विस्फोट के बाद आधे रास्ते में रुक जाता है संदिग्ध, फिर…

दरभंगा. रेलवे स्टेशन (Darbhanga Railway Station Blast) पर पार्सल ब्लास्ट मामले में अब तक जांच में जुटी एजेंसियों को लगातार लीड मिल रही है. GRP के सूत्रों से News 18 को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के अनुसार दरभंगा स्टेशन पर भी ब्लास्ट के वक्त एक संदिग्ध युवक दिखा है. अब जांच एजेंसी उस शख्स को पार्सल रिसीवर मानकर अपनी तफ्तीश आगे बढ़ा रही है. इसके साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि कहीं यही शख्स  मो. सुफियान तो नहीं है जिसके नाम से पार्सल आया था.

जानकारी के मुताबिक 17 जून को हुए ब्लास्ट के समय एक संदिग्ध CCTV में कैद हुआ है. दरअसल जब से पार्सल में ब्लास्ट हुआ था सवाल खड़े हो रहे थे कि पार्सल लेने कोई रिसीवर आया था कि नहीं? जांच में जुटी एजेंसी ने 17 तारीख की CCTV फुटेज खंगाली तो जो शख्स दिखा है उसकी हरकतें ही उसे संदिग्ध बनाती है.

भीड़ देख आधे रास्ते में रुक जाता है शख्स

मिली जानकारी के अनुसार सीसीटीवी में जो शख्स 17 जून को ब्लास्ट के वक्त दिखाई दिया है वह स्टेशन परिसर के एक नम्बर प्लेटफॉर्म पर बने GRP थाना के बगल से गुजरता है. वह कुर्ता पायजामा और सिर पर टोपी भी पहने हुे है. जहां पर ब्लास्ट हुआ था उस ओर वह संदिग्ध शख्स भी बढ़ता है. लेकिन, ब्लास्ट की जगह भीड़ देख आधे रास्ते मे ही रुक जाता है.

फिर स्टेशन से बाहर आ जाता है संदिग्ध

सीसीटीवी में साफ दिख रहा है कि फिर वह वापस होता है और ब्लास्ट के बगल में प्लेटफॉर्म पर बनी सीढ़ी पर चढ़ कर वहां दूर से ब्लास्ट हुई जगह को निहारते हुए मोबाइल से किसी से बात करता है. फिर वह सीढ़ी से वापस उतरकर एक नम्बर प्लेटफार्म पर लगे स्वत्रंत्रता सेनानी एक्सप्रेस के पीछे जा कर एक बोगी में बैठ जाता है. फिर कुछ देर के बाद वह ट्रेन से उतर कर स्टेशन से बाहर निकल जाता है.

ट्रेस किया जा रहा संदिग्ध का मोबाइल नम्बर

गौर करने वाली बात इसमें यह भी नजर आ रही है कि इस पूरी प्रक्रिया में वह संदिग्ध शख्स काफी बेचैन दिखता है. जिससे जांच में जुटी जीआरपी व अन्य एजेंसियों को शक हुआ. उसके मोबाइल नम्बर की जानकारी के लिये टावर को ट्रैक किया गया है जिसके बाद उसके मोबाइल नम्बर को भी निकाल लिया गया है.

संदिग्ध को जल्द ही हिरासत में ले सकती है एजेंसी

पूरे मामले के बाद ये के बाद जांच एजेंसी ये पता कर रही है कि वो शख्स कहीं  मो. सुफियान तो नहीं जो पार्सल रिसीव करने खुद से आया हो. इन सभी सवालों को लेकर जांच एजेंसी जांच में जुट गई है. बताया ये भी जा रहा है कि  CCTV में दिख रहे शख्स को जल्द ही हिरासत में ले लिया जा सकता है, इसके बाद ही पूरे मामले से पर्दा उठ सकता है.

ISI कनेक्शन भी आ रहा सामने

बता दें कि  बिहार के दरभंगा स्टेशन पर हुए ब्लास्ट की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे नई और बड़ी जानकारी जांच एजेंसियों के हाथ आ रही है. अब तक की जांच में धमाके के पीछे बड़ी आतंकी साजिश और इसके तार पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी यानि कि ISI से जुड़े होने के पुख्ता साक्ष्य भी जांच एजेंसियों के हाथ लगे हैं.

NIA कर सकती है दरभंगा ब्लास्ट की जांच

वहीं, यह जानकारी भी सामने आ रही है कि जांच में शामिल संदिग्धों का कनेक्शन बिहार, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश से है तो इस वजह से जांच की जिम्मा राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA को सौंपा जा सकता है. जांच एजेंसियों के आधिकारिक सूत्रों की मानें तो बहुत जल्द इस ब्लास्ट की जांच NIA को सौंपे जाने की संभावना है.

कश्मीर से तेलंगाना तक जुड़ा कनेक्शन

गौरतलब है कि इस ब्लास्ट का कनेक्शन पहले तेलंगाना फिर झारखंड इसके बाद उत्तर प्रदेश होते हुए अब जम्मू कश्मीर तक जा पहुंचा है, जिसकी वजह से अब यह साफ होने लगा है कि साजिश बहुत बड़ी थी. जम्मू की जेल में बिहार के ही छपरा के मढ़ौरा का रहने वाला मो. जावेद बंद है. उसके ऊपर आतंकवादियों को हथियार सप्लाई करने का आरोप है.

पूछताछ के लिए जम्मू भी जा सकती है जांच एजेंसी

दरभंगा ब्लास्ट में रेल पुलिस के सामने जिस मो. सूफियान की तलाश की जा रही है, सूत्रों का दावा है कि वह मो. सूफियान जम्मू के जेल में बंद मो. जावेद का ही साथी है. आपस में इन दोनों का पुराना कनेक्शन है. संभावना है कि जल्द बिहार ATS की टीम जम्मू जा सकती है और वहां जेल में बंद जावेद से इस मामले पर पूछताछ कर सकती है.

Follow Me:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *