ताजा समाचार

Maharashtra Corona Cases: पाबंदियों के बाद भी नहीं सुधर रहे महाराष्ट्र के हालात, एक दिन में करीब हजार लोगों की मौत

महाराष्ट्र में कोरोना की रोकथाम के लिए लागू तमाम पाबंदियों के बावजूद भी हालात में कोई सुधार नहीं हो रहा है। यहां तक कि रोजाना राज्य में मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में तकरीबन हजार लोगों की जान चली गई। यह एक दिन में कोरोना से मरने वालों की अब तक की सबसे बड़ी संख्या है। इससे ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश में दूसरी लहर के बीच महाराष्ट्र में किस कदर कोरोना कोहराम मचा रहा है। बीते एक दिन में महाराष्ट्र में एक बार फिर से 60 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, महाराष्ट्र में बीते 24 घंटों में कोविड के 63,309 नए मामले सामने आए, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,473,394 हो गई। 985 और लोगों की जान जाने के बाद अभी तक राज्य में संक्रमण की वजह से 67,214 लोगों की मौत हो चुकी है। आज 61181 लोग ठीक भी हुए हैं, जिसके बाद कुल रिकवर होने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है और यह 3,730,729 हो गई है। आज 273,125 लोगों की टेस्टिंग करवाई गई है। उधर, राजधानी मुंबई में भी एक बार फिर से कोरोना मामलों में तेजी आई है। शहर में 4926 नए मामले मिले हैं, जिसके बाद कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 640,409 हो गया है। शहर में आज 78 लोगों की जान चली गई। बता दें कि बीते दिन महाराष्ट्र में 66,358 नए मामले सामने आए थे, लेकिन मरने वालों की संख्या 895 थी। कल 67,752 लोग डिस्चार्ज किए गए थे। मुंबई में मंगलवार को 4014 नए मामले मिले थे।

18-44 साल के लोगों को मुफ्त में लगेगा टीका
वहीं, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को घोषणा की कि राज्य सरकार ने सरकारी अस्पतालों में 18-44 साल के नागरिकों को मुफ्त टीका लगाने का फैसला किया है। हालांकि उनके एक मंत्री ने कहा कि टीके की पर्याप्त खुराकों की अनुपलब्धता के चलते एक मई से इस उम्र समूह का कोविड-19 टीकाकरण अभियान शुरू नहीं हो पाएगा । ठाकरे ने यहां मंत्रिमंडल की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद यह घोषणा की। बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य सरकार इस उम्रवर्ग के 5.71 करोड़ लोगों को टीका लगाएगी और इस कदम से राज्य के खजाने पर 6500 करोड़ रूपये का बोझ पड़ेगा। उन्होंने कहा कि हालांक टीके की पर्याप्त खुराकों की अनुपलब्धता के चलते एक मई से यह टीकाकरण अभियान शुरू नहीं हो पाएगी लेकिन राज्य सरकार ने योजनाबद्ध तरीके से अगले छह महीने में नागरिकों को टीका लगाने की योजना बनायी है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: